Anjan Shalaka – Pratishtha

Anjan Shalaka – Pratishtha

Anjan Shalaka – Pratishtha

Anjan Shalaka – Pratishtha

Jinalaya

Anjan Shalaka – Pratishtha

प्रतिमा में अध्यात्मिक उर्जा, परम प्रभावकता एवं चमत्कारी चेतना की ज्योति जागृत करने की प्रक्रिया अर्थात् अंजनशलाका

अनंतकाल से अर्जित जन्ममरणादि, एवं नरक-निगोदादि दुखों को एवं दुःखप्राप्रक कर्मों को शतशः खंड खंड कर, शाश्‍वत सुख के म्राज्य को प्रदान द्वारा कालातीत बनानेवाला जैन शास्त्रोक्त सदनुष्ठान अर्थात "अंजनशलाका"

अंजनशलाका याने... पाषाणमूर्ति में शास्त्रोक्त विधिविधानपूर्वक प्राणों को पूरना... जिन प्रतिमाओं को परमात्मा का स्वरुप देना... सर्वोदय के सर्जनहार का सुन्दर समारोह...

अंजनशलाका याने... वीतराग परमात्मा के परम ऐश्वर्यपूर्ण जीवन के विशिष्ट प्रसंगो के जीवित दृश्य... समस्त संसार में मैत्रीभाव उत्पन्न करनेवाला पुण्य प्रसंग... विश्वमित्र-जगतवत्सल परमेश्वर की जीवनी के पांच कल्याणकों का मंत्राक्षरों द्वारा उल्लेख...

The place of worship, Shree Matru Pitru Sheetalnath 24 Tirthankar Jinalaya, at Chennai is a befitting tribute to Jainism. Aptly located in Chennai down town, the temple couldn’t have been at a better vicinity. With the consecration of this holy place on January 29th 2012, the city would have its maiden Jain temple housing all the 24 Tirthankaras of the present age.

अंजनशलाका महाविधान होते ही पाषाण की प्रतिमा स्वयं साक्षात् भगवान बन जाती है...

Social Links:
FACEBOOK
TWITTER
YOUTUBE
Powered by Multy Graphics